A Wake up call to the Police Administration

Police-force of West Bengal has repeatedly demonstrated professional inefficiency. They haven’t lived up to the expectation whenever required. They haven’t been able to do their job when goons of the ruling party has often heckled the policemen. Such hooligans under the protection of TMC have been reported to attack even police stations. Few months back, a media shot went viral where a policeman was seen to hide under the table, protecting himself with a mere paper file. Don’t these incidences prove that our policemen are either not empowered & equipped to protect  themselves or they have to comply with the instruction of their Minister to admit such hooliganism under the banner of TMC?  In either case, do people of West Bengal have any reason to have faith on its police force? Can the police force, which can’t protect themselves, protect common men? Can’t this situation be described as administrative failure of the Home Ministry led by the Chief Minister of West Bengal? And if a State doesn’t keep its policemen empowered, well-trained & efficient, would it be wrong to say that the State doesn’t have a normal Law n’ Order status?

Breaking of rows are common phenomenon in districts, villages & different parts of West Bengal. In almost each incident, the police force either remains inactive or become oppressive on the relatively weaker section of the people involved in the row, leading to a general lack of faith & reverence about police force. This type of an image of police force is a shame for the State and for all of us as the people of the State.

Shameful incidents like rape & violence on women have observed a monotonous increase in TMC regime in West Bengal. As an example, even a 70 years old Nun of a Christian Missionary School at Ranaghat, Nadia district, was not exempted by the rapists’ gang. They raped her as she didn’t want to comply with their illegitimate demand of money from the School. What an unbearable shame for ALL of us! Our Chief Minister who is also the Home Minister, is unable to control situations in general; instead, she prefers to declare compensation for the family of the rape-victim. The respectable Minister has tried to pay the price of all the misdeeds of her party-men, be it a rape, a gang-rape, a murder, hooliganism or anything at the cost of the money of Government-treasury i.e.public-money. The oppressed people also had no other way but to accept the compensation due to definite practical reasons, I guess. Common men are too weak to withstand threats of the Government supported hooligans. So in our state now, every abstract human possessions are perceived to be purchasable, be it human-life, prestige, respect to women or anything of that sort! Is this anything less than a hell? The police is just titular! They have to be just the yes-men to the Home Minister! If they approach to say & do anything otherwise, they are removed to a relatively defunct job-posting, as happened to Ms. Damayanti Sen, IPS, after she truthfully investigated the infamous rape-case of Park Street and declared that the girl was ill-treated & raped by some rich anti-socials as against the statement of the Chief cum Home Minister that it was a mere ‘made-up incident’!

In incidences when any type of resistance has been shown from people of opposition parties against TMC-goons, local police force has invariably acted favourably for the TMC-men. Is it quite rational & logical to believe that the opposition-men were always illegitimate as against the ruling-party men? However, police has almost never stood up for justice, instead they filed false cases against opposition men as a matter of strategy to suppress opposition-activity. Can this be called a healthy democracy where oppositions are not allowed to act upon their own political agenda? Policemen has turned, from public-servants, to TMC-servants! What a shame!

The other severe problem to the State-conditions of West Bengal is terror-infiltration across the international border between West Bengal & Bangladesh, as officially reported by Bangladesh. We are very alarmed and concerned to know what steps have been taken by the Police and the Government of  West Bengal, otherwise, Bengal-border is acting as the big open gate of terror infiltration into the land of India making the whole country vulnerable! We as residents of West Bengal can’t take the burden of being responsible for unwanted terror activities in our dear country.

There are several reasons why common men in common places are often expressing their disgust about policemen these days. Police force of Bengal always had an image of being corrupt even earlier. But at the same time, they had an image of strength too. In TMC regime, police force has lost its image of strength. No one is afraid of the police these days in West Bengal as they believe police to be completely unable & ineffective to tackle any situation of unrest. And this is why, people of the State are living with a persistent sense of insecurity too, as they don’t expect any help from the police force in case they fall in some trouble! Inherent & imparted weakness of the police force of the State is leading to a dangerous & fearful law n’ order status of West Bengal in near future!

We, as a responsible opposition party of the State, feel it to be necessary to appeal to the police administration to wake up from hibernation & take control of the lawful governance of the State as stated in our Constitution. We request the police force to do their duties. With all these agenda, we have decided to march ahead towards Lalbajar, the Head Quarter of Kolkata Police, with a rally of people on 25th May, Thursday, 2017.

नमो विजय दिवस

स्वाधीन भारत के इतिहास में आप देखेंगे कि नेतृत्व की सफलता के मुख्य कारक नेता का कर्म के प्रति पूर्ण समर्पण, कड़ी मेहनत एवं लगन के साथ दूरदृष्टा होना रहा है। विरले ही ऐसे नेता हुए हैं जिन्होंने इन विशेषताओं पर अधिकार बनाया है। श्री नरेन्द्र मोदी इन सब विशेषताओं से परिपूर्ण व्यक्तित्व हैं एवं उन्हें अपने कर्म के प्रति ध्यान केंद्रित करना बखूबी आता है। वे आसमान को छूने की बात भी करते हैं लेकिन उनके पैर हमेशा जमीन पर रहते है। इन सब गुणों के कारण श्री नरेन्द्र मोदी एक असाधारण नेतृत्व क्षमता से परिपूर्ण व्यक्तित्व हैं।

साल 1950 में वडनगर गुजरात में बेहद साधारण परिवार में जन्‍मे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले 12 वर्षों तक मुख्यमंत्री के रूप में गुजरात में अभूतपूर्व एवं समग्र विकास किया, और वही देखकर, तीन वर्ष पूर्व आज ही के दिन उन्हें जनता-जनार्दन ने पूरे देश की कमान सौंप दी..

नरेन्द्र मोदी ने 26 मई 2014 को भारत के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली और वे भारत के प्रथम प्रधानमंत्री हैं जिनका जन्म आज़ादी के बाद हुआ है। ऊर्जा-वान, समर्पित एवं दृढ़ निश्चय वाले नरेन्द्र मोदी एक अरब से अधिक भारतीयों की आकांक्षाओं और आशाओं के द्योतक हैं।

मई 2014 में अपना पद संभालने के बाद से ही प्रधानमंत्री मोदी चहुंमुखी और समावेशी विकास की यात्रा पर निकल पड़े हैं जहां हर भारतीय अपनी आशाओं और आकांक्षाओं को पूरा कर सके। वे ‘अंत्योदय’, अर्थात, अंतिम व्यक्ति तक सेवा पहुंचाने के सिद्धांत से अत्यधिक प्रेरित हैं।

नवीन विचारों और पहल के माध्यम से सरकार ने यह सुनिश्चित किया है कि प्रगति की रफ्तार तेज हो और हर नागरिक को विकास का लाभ मिले। अब शासन मुक्त है, इसकी प्रक्रिया आसान हुई है एवं इसमें पारदर्शिता आई है।

श्री नरेन्द्र मोदी देश के एकमात्र ऐसे नेता है जिन्होंने आम जनता से न केवल राजनैतिक रिश्ता विकसित किया है अपितु एक भावनात्मक लगाव स्थापित किया है। उनके प्रशंसक न केवल भारत में हैं अपितु कई अन्य देशों में भी श्री मोदी असंख्य प्रशंसक मौजूद हैं। साथ ही समाज के हर वर्ग, स्त्री एवं पुरुष, शहरी एवं ग्रामीण, अमीर एवं गरीब, बुद्धिजीवी वर्ग सभी में श्री नरेन्द्र मोदी का अपना स्थान है। विदेशों में रहने वाले कई अनिवासी गुजराती उन्हें सम्मान देते हैं। श्री नरेन्द्र मोदी ने जनता से सीधा संवाद स्थापित करने के उद्देश्य से सूचना प्रोद्योगिकी का अनूठा उपयोग किया है एवं इसके माध्यम से देश का युवा वर्ग बड़ी संख्या में श्री नरेन्द्र मोदी के व्यक्तित्व से प्रभावित हुआ है।

वे साहस, करुणा और विश्वास से पूर्ण एक ऐसे व्यक्ति हैं जिसे देश ने इस विश्वास के साथ अपना जनादेश दिया है कि वे भारत का पुनरुत्थान करेंगे और उसे दुनिया का पथ–प्रदर्शक बनाएंगे।

“इबार बंगला ”- अबकी बार पश्चिम बंगाल

पार्टी अध्यक्ष अमित शाह संगठन को मजबूत बनाए रखने हेतु लगातार दौरे कर रहे हैं और अभी भी वे तीन दिवसीय दौरे पर पश्चिम बंगाल प्रवास पर थे।

पश्चिम बंगाल विधानसभा सीटों के लिए हुए उप-चुनाव के नतीजों में भाजपा का वोट प्रतिशत भारी संख्या में बढ़ा है। राष्ट्र विरोधी ताक़तों को संरक्षण व वोट बैंक की राजनीति करने वाली तृणमूल सरकार ख़िलाफ़ लोगों में गुस्सा है और वे अब भाजपा में ही अपना विकल्प ढूंढ रहे हैं।

25 अप्रैल –

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जी  ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल के नक्सलबाड़ी के एक छोटे गांव से पार्टी के विस्तार अभियान का शुभारंभ किया। इसी इलाके से 1960 के दशक के आखिरी बरसों में वामपंथी उग्रवाद शुरू हुआ था।

श्री अमित शाह ने मंगलवार को दार्जीलिंग जिले में एक आदिवासी परिवार के घर पर दोपहर का भोजन किया। शाह ने नक्सलबाड़ी इलाके के दक्षिण कटियाजोत गांव में राजू महाली के घर भोजन किया, एक सामान्य से दिखने वाले परिवार का आतिथ्य, प्रेम और उत्साह से भरपूर था।अमित शाह जी के साथ पश्चिम बंगाल भाजपा के सभी बड़े कार्यकर्ता मौजूद रहे।

जिसके उपरांत श्री अमित शाह ने बूथ नंबर. 93 में माँ भारती, श्री श्यामा प्रसाद मुख़र्जी एवं पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी के चरणों में वंदन कर, कार्यकर्ताओं की बैठक ली। माननीय अमित शाह जी ने इंदूर स्टेडियम, सिलीगुड़ी में जनता को संबोधित भी किया।  

नक्सल प्रभावित इस क्षेत्र की स्थिति अत्यंत ही दयनीय है; जहाँ देखो वहां केवल गरीबी ही नज़र आती है। जनता की माने तो तृणमूल नेता वादे तो काफी बड़े बड़े करते  है, जब वो वोट मांगने आते  हैं। परन्तु उसके बाद कभी दिखाई नहीं देते। यहाँ इन ग़रीबों की समस्याओं को सुनने वाला यहाँ कोई नहीं हैं।

26 अप्रैल –

श्री अमित शाह न सिर्फ पार्टी कार्यकर्ताओं से मिले बल्कि उन्होंने सामाजिक कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों से भी सहर्ष भेंट की।

जब मैने पश्चिम बंगाल के भवानीपुर में, माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जी के साथ बूथ कार्यकर्ताओं से मुलाकात की और इसके साथ ही क्षेत्र के निवासियों से घर-घर जाकर भेंट की तो इस दौरान यह देखकर बहुत दुःख, अफ़सोस तथा रोष हुआ कि…

ममता बनर्जी, जो कि बंगाल की मुख्यमंत्री और भवानीपुर की विधायक भी हैं,

उनके खुद के क्षेत्र में महिलाओं और बच्चों के लिए बुनियादी सुविधाएँ तक यहाँ उपलब्ध नहीं है।

भवानीपुर की जनता सरकार की अनदेखी से त्रस्त आ चुकी है। जहाँ भी गया वहां पर समस्याओं का अंबार देखने और सुनने को मिला। तृणमूल सरकार केवल तुष्टिकरण की राजनीति करने व्यस्त है, उन्हें जनता की कोई प्रवाह नहीं है। अगर मुख्यमंत्री के स्वयं के क्षेत्र की यह दुर्दशा है तो आप पूरे राज्य का अनुमान लगा पा रहे होंगे।  

27 अप्रैल –

न्यू टाउन, राजारहाट, कोलकाता में हमने माननीय अमित शाह जी के साथ घर घर जा जाकर रहवासियों से मुलाक़ात की…साथ ही हम सभी के प्रेरणास्त्रोत… शिक्षाविद्, चिन्तक और भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ॰ श्यामाप्रसाद मुखर्जी के निवास स्थान “आशुतोष मुखर्जी स्मारक संस्थान” में माननीय अमित शाह जी के साथ जाने का अवसर प्राप्त हुआ।

पार्टी इस साल दीनदयाल उपाध्याय जन्मशती वर्ष मना रही है और इस साल को पार्टी ने विस्तार कार्यक्रम के रूप में भी मनाने का फैसला किया है। जिसकी शुरुआत पश्चिम बंगाल से की गई; जहाँ राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह जी के 3 दिनों के प्रवास में बीजेपी की विचारधारा, गरीब कल्याण की प्रतिबद्धता और सबका साथ, सबका विकास नारे के बारे में लोगों को बताया ।